Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 17, 2017 · 1 min read

“अभी ईमान जिंदा हैं “(मुक्तक)

“अभी ईमान जिंदा हैं ”
मुक्तक
समान्त -आन
पदान्त -जिंदा हैं
मात्रा संख्या -28

गर्दिशों के सायें में अब भी पहचान जिंदा हैं।
टुटी कुछ रीतियाँ लेकिन अब भी विधान जिंदा हैं।
कौन है वो जिसने तुम्हें यहाँ पर रोक रखा हैं।
उड़ो तुम पर फैलाकर अभी आसमान जिंदा हैं।

सन्नाटों के मंजर में अब भी तुफान जिंदा हैं।
टुटे है हौसले लेकिन अभी अरमान जिंदा हैं।
कौन कहता हैं दुनियाँ में कमी हैं भद्रजनों की।
अपमानों के भंवर में अभी सम्मान जिंदा हैं।

मंदिर में भजन मस्जिद में अभी अजान जिंदा हैं।
दिलों में हर किसी के अब भी इक मकान जिंदा हैं।
कौन कहता हैं यहाँ पर कमी है देशभक्तों की।
देश पर मिटने वाले करोड़ों जवान जिंदा हैं।

शैतानों की बस्ती में अब भी इंसान जिंदा हैं।
करे दिल से खातिर जो एेसे जजमान जिंदा हैं।
कौन कहता हैं दुनियाँ भरी है बेईमानों से।
जुल्म हजारों सहकर भी अभी ईमान जिंदा हैं।

स्वरचित
रामप्रसाद लिल्हारे “मीना “

1 Comment · 816 Views
You may also like:
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
माँ
आकाश महेशपुरी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...