Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2021 · 1 min read

अभिव्यक्ति भावों की

मौन हैं शब्द मगर मुखर है भावनाएँ,
समझ सके समझ लें गहरी सी संवेदनाएँ,
विचारों की होती है गहरी अभिव्यक्ति,
तब निकलती ह्रदय से बनकर कविताएँ।

प्रेरणा रूप बन जाती हैं ये सदा सी,
निश्चल होती हैं ये सदा सरिता सी,
कल्पना के रथ पर आरूढ़ होकर
यह विचरती है सदा ही चंचला सी।

यह कभी दर्द की गहरी खाई में हैं जाती,
यह कभी समुन्द्र सा उफान जीवन में लाती,
कभी खुशियों के सागर में गोते लगाकर ,
कल्पना लोक जाकर यह सुन्दर संसार बनाती।

भावप्रवणता का न तोलो कभी तुम,
निर्णायक बनकर न बोलो कभी तुम,
नही जरूरी सभी उसके जीवन में घटित हो,
यह तो भावनाएं है न मोलो कभी तुम।

2 Likes · 254 Views
You may also like:
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr.Alpa Amin
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
मुर्झाए हुए फूल तरछोडे जाते हैं....
Dr.Alpa Amin
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
"अशांत" शेखर
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
Loading...