Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 29, 2021 · 1 min read

अभिलाषा

मेरी आंखों में उमड़ा
गहरा प्यार
उमड़ते मेघ-सी
मेरी अभिलाषा
कि तुम्हे देख लूं
बस एक पल और
फिर बरस लूं देर तक
जैसे मेघ बरसते हैं
-:मनोज शर्मा:-

143 Views
You may also like:
कविता - नई परिभाषा
Mahendra Narayan
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
✍️✍️वहम✍️✍️
"अशांत" शेखर
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
मां
हरीश सुवासिया
परदा उठ जाएगा।
Taj Mohammad
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
विश्वासघात
Seema Tuhaina
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की वेदना....
Dr.Alpa Amin
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मां।
Taj Mohammad
"पिता"
Dr.Alpa Amin
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
सुना है।
Taj Mohammad
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️अच्छे दिन✍️
"अशांत" शेखर
Loading...