Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अभिनन्दन कैसे लिखे

अभिनन्दन कैसे लिखे

लिख डालो आभार पत्र भी, इसमें भी क्या मुश्किल है?
मेरे पीछे काम हजारों, दुनियाभर की किलकिल है।।

नम्र निवेदन लिख देना और, करना विनय प्रणाम है।
साथ साथ में कहते जाना, राम राम अविराम है।।

बस इतनी सी बातें है तो, चकराना किस बात पर।
भूल चूक की माफी मांगो, चार बार बोलो सर सर।।

अच्छी अच्छी बातों को कर, मनमोहन बन जाओ फिर।
बार बार तुम एक चीज को, बोलो खाओ खाओ फिर।।

फूल झरे बातों से इतना, स्वागत बातों से करना।
शब्द पूजारी बनकर उनको, शब्दो से ही जय कहना।।

वो जो भी बोले तुमको तो, तुम केवल हां ही कहना।
ना से नाराजी हो सकती, सम्भव कोप पड़े सहना।।

मन्त्र सफलता का हाँ में है, मानों मेरी भाई जी।
ना से पाना हो सकता है, जीवन भर की खाई जी।।

जैसे चमचाई चाकर जो, करते अपने अफसर की।
भाव भरो आभार पत्र में, बस भूमिका आखर की।।

अपने मुख से अभिनन्दन का, बार बार उच्चारण हो।
होना ऐसी उन्हें प्रतीति, वो राजा तुम चारण हो।।

नतमस्तक ऐसे हो जाना, ज्यूँ वो ही भगवान है।
ज्ञानवान कहकर के उनको, खुद बनना नादान है।।

आदर सादर सादर आदर, लिखना दुर्लभ काम नहीं।
लिखे बिना शब्दों की माला, मिल सकता आराम नहीं।।

332 Views
You may also like:
मन
शेख़ जाफ़र खान
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Shankar J aanjna
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
कशमकश
Anamika Singh
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
प्यार
Anamika Singh
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Manisha Manjari
आस
लक्ष्मी सिंह
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...