Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

अभागीन ममता

-हाय री अभागिन ममता –
विनाश काले विपरीत बुद्धि ,
पाप पे पाप कर रहा ,नहीं कर रहा
वो अपने मन की शुद्धि।
सामने मौत को देखकर भी नहीं हो रहा संज्ञान ।
अकारण ही क्रूर शरारत से ले ली दो मासूमों की जान ।
दोष उसका क्या था ? यही ना !
के उसने किया मानव पर यकीन,
हाय ! भोले पशु ! जैसी तेरी किस्मत ,
ऐसी किसी की हो नहीं।
एक ममता मयी मां और एक नवजात शिशु ,
की हत्या कर अरे मानव तूने क्या पाया ?
इनके हृदय से निकली चीत्कार,
और इनकी दुखी आत्मा के पुकार से ,
तूने अपने हिस्से औरअधिक दुर्भाग्य बढ़ाया ।
अरे कुछ तो शर्म कर !
उस मासूम बेजुबान ने जाते हुए भी किसी को
हानि ना पहुंचाई ,खामोशी से प्राण दे दिए ,
मगर वह सब के दिलों में अमर हो गईं।

129 Views
You may also like:
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कधी कधी✍️
'अशांत' शेखर
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
अशांत मन
Mahender Singh Hans
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
'अशांत' शेखर
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
Ravi Prakash
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आओ हम सब घर घर तिरंगा फहराए
Ram Krishan Rastogi
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
रोता आसमां
Alok Saxena
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
जीवन चक्र
AMRESH KUMAR VERMA
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
इरादा
Shivam Sharma
मृत्युलोक में मोक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...