Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2016 · 1 min read

अब वो कश्मीर कहाँ है

अब वो वादियां कहाँ
क्या अब भी
याद है तुम्हें?
उस जनवरी की रात,
जब पूरी वादी बर्फ से सराबोर थी,
और यकायक
तुमने रात के बीचो-बीच
चाय की
फरमाइश रख दी थी,
जमी झील के बीच
शिकारे में चाय-पत्ती का
ख़त्म हो जाना भी याद ही होगा ,
और फिर वो १२ साल का वहीद
२ किलोमीटर दूर से
एक फरमाइश पर
चाय ले आया था,
उस चाय की चुस्की में बिताए
उन लम्हों की गर्माहट
आज भी इस रिश्ते में बरकरार है,
तभी तो वादी की कोई भी खबर हो
गाहे बगाहे “वहीद” का जिक्र
आ ही जाता है,
पर आजकल
वादी में हुज़ूम के
सर चढ़े जुनूंन की
ख़बरें आम है,
घर के चराग़ ही
घर को ख़ाक करने पर
उतर आये हैं,
सुना तुमने
नफरतें घर कर गयी हैं
बुनियाद में,
तेज़ाब बिखरा है फ़िज़ाओं में,
पनपती बेलों पर
सियासत की अमरबेलें
चिपक गयी हैं,
वहां अब कोई
चढ़ती बेल को
सहारा नहीं देता,
कोयलें गूंगी हो गयी हैं,
सुलगती वादी में
गुलों की शोखियाँ
जल गयी हैं,
“वहीद” होता तो बताता
झील के बीच
पनपते इश्क़ को
अब वहां
चाय नसीब नहीं होती !

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 293 Views
You may also like:
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देवदासी प्रथा
Shekhar Chandra Mitra
लांगुरिया
Subhash Singhai
चढ़ती उम्र
rkchaudhary2012
Advice
Shyam Sundar Subramanian
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
शिवराज आनंद/Shivraj Anand
Shivraj Anand
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
अब मैं
gurudeenverma198
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
मेरे सनम
DESH RAJ
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
पैसे की अहमियत
Chaudhary Sonal
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
हम भी इसका
Dr fauzia Naseem shad
✍️बंद मुठ्ठी लाख की✍️
'अशांत' शेखर
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
ऋतुराज का हुआ शुभारंभ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
Time never returns
Buddha Prakash
मैं किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
Loading...