Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 8, 2016 · 1 min read

अब लौट के न आऊँगा !

अब न गीत कोई प्रीत की गाऊंगा
अब न दिल किसी का बहलाऊँगा !

खिलौना समझ कर तोड़ देते है वो
अब न दिल किसी से मै लगाऊँगा !

तेरी यादों को बाँहों मे समेट कर
जीवन भर उसे गले लगाऊँगा !

न देखना पीछे मुड़ कर कभी
अब लौट के न आऊँगा !

जिन्दगी का दौर था समझकर
इस राह से मै भी गुज़र जाऊँगा !

विजय मिश्र * अभंग *

120 Views
You may also like:
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
"अशांत" शेखर
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
शहीद होकर।
Taj Mohammad
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
पिता
Shailendra Aseem
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कभी हम भी।
Taj Mohammad
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
बेरूखी
Anamika Singh
कर्म करो
Anamika Singh
नसीब
DESH RAJ
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मातम और सोग है...!✍️
"अशांत" शेखर
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
सुरज दादा
Anamika Singh
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
Little baby !
Buddha Prakash
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
✍️मयखाने से गुज़र गया हूँ✍️
"अशांत" शेखर
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
Loading...