Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अब ये न बेबसी रहे

ग़ज़ल
*******
ग़र चाँदनी खिली रहे
तो दूर तीरग़ी रहे
?
अरमान सारे ख़ाक़ हैं
बस दिल में बेबसी रहे
?
खुशियाँ मिली है सारी तो
आँखों में क्यों नमी रहे
?
रूठो न यार मुझसे तुम
ये दोस्ती बनी रहे
?
आखों से जाम छलका दे
फिर दूर तिश्नग़ी रहे
?
जब तक रहे तू सामने
ये सांस भी रुकी रहे
?
दामन छुड़ा न मुझसे तू
कुछ देर और खड़ी रहे
?
मँहगाई ने रुला दिया
अब ये न मुफ़लिसी रहे
?
अब हम जहाँ मिलें सनम
वो शाम क्यूँ ढली रहे
?
तेरे बग़ैर होठों पर
फ़रियाद इक दबी रहे
?
“प्रीतम” न प्यार हो जुदा
सबको सनम मिली रहे
?
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
?????????
2212 1212
????????

282 Views
You may also like:
पापा
सेजल गोस्वामी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
पिता
Neha Sharma
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
Loading...