Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अब मुझे ज़िन्दगी भी दे साहिब

अब मुझे जिंदगी भी दे साहिब
इक हसीं आशिक़ी भी दे साहिब।

कोई सितमगर भी मुझसे प्यार करे
कोई ज़ालिम हसीं भी दे साहिब।

मैं भी, बंदनवाज़, तेरा हूँ………
हाँ मुझे…..बंदगी भी दे साहिब।

मेरे होंठों पे गीत तेरे हों……..
ऐसी कोई मौशिकी भी दे साहिब।

रूह प्यासी है, जिस्म प्यासा है
अब जामे-जिंदगी भी दे साहिब।

सारा ही आसमां दिया मुझको
कहीं थोड़ी जमीं भी दे साहिब।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़
Pl visit my FB Page:anandbiharilive

6 Comments · 592 Views
You may also like:
आतुरता
अंजनीत निज्जर
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तीन किताबें
Buddha Prakash
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
समय ।
Kanchan sarda Malu
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
पिता
Manisha Manjari
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...