Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

——::अब मुझको वो कर दिखाना है ::—-

——:: अब मुझको वो कर दिखाना है ::—-

अपना लक्ष्य मुझे हर हाल में पाना है
लाख बाधा हो राह में नही घबराना है
ठाना है मैंने जो कर गुजरने का
अब मुझको वो हर कीमत पाना है II

माना नर्वस हु मै अपनों की नसीहत से
अब उसको ही जीवन ढाल बनाना है
है आज भी वही धार,वही तेज मुझ मैं
कर्म से साबित उनको अब कर दिखाना है II

हुआ असफल एक बार मै तो क्या
तुमने नहीं अभी मेरी ताकत को पहचाना है
सीखा है मैंने भी चींटी से संभल जाना गिर कर
जान गया हूँ अब कैसे हार के भी जीत जाना है II

कह निकम्मा सब ने मेरे जमीर को ललकारा है
नहीं रुकना, अब नही थकना, बस चलते जाना है
हूँ अभी काबिल और नजदीक भी अपनी मंजिल के
मुकम्मल खुद को बस अब कर के दिखाना है II

अब तक जो हुआ सो हुआ आगे वो अब न होगा
बन हवा का झोंका अब परचम लहराना है
नहीं हु मै वैसा जैसी कल्पना में मुझे सजाया
शायद उस से भी कही आगे अभी मुझे जाना है II

जरुरी नही मिले राहें मन माफिक सदैव
फिर भी कुछ कर मंजिल को तो पाना है I
ठहर जा ए वक्त जरा अभी लय में मुझे आने दे
क्या कर सकता हूँ मै, दुनिया को अभी ये समझाना है II

डिगा सके मुझे मेरे जीवन लक्ष्य से
जिह्वा तरकस में किसी ऐसा शब्द बाण नही है
न कर कोशिश अब लेने की मेरी धैर्य परीक्षा
इस मजबूती के सहारे मुझे उस पार जाना है !!

नहीं परवाह अब मुझे कोई कहता है तो कहने दे
बुलंदी पर खुद को अभी मुझे पहुचाना है I
चल पड़ा हूँ सज-धज कर पुरे दम-ख़म से
विजय श्री को अपने कदमो में झुकाना है II

अपना लक्ष्य मुझे हर हाल में पाना है
लाख बाधा हो राह में नही घबराना है I
ठाना है मैंने जो कर गुजरने का
अब मुझको वो कर दिखाना है II

——-::डी. के. निवातियाँ::—-

1 Comment · 231 Views
You may also like:
कामयाबी
डी. के. निवातिया
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आया आषाढ़
श्री रमण
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
सास-बहू के झगड़े और मनोविज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
dks.lhp
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
माई री [भाग२]
Anamika Singh
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
ये दिल फरेबी गंदा है।
Taj Mohammad
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत... कौन है जो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Loading...