Jul 22, 2018 · 1 min read

अब ना है कोई फिक्र सांवरे

तेरा हाथ है मेरे सर पर टीका
मुझको अब ना है कोई फिक्र सांवरे
रात दिन सुबह शाम रहता है
रहता है तेरा ही जिक्र सांवरे

हम तो तेरे ही होकर रह गए
जब से तेरी गली में कदम है पड़ा
सुनते थे तेरे किस्से दया के
अब किस्से को हकीकत में देख लिया

शिकायत करने के वक्त गए
शिकायत करने से पहले शिकायत मिटी सांवरे
तेरा हाथ है मेरे सर पर टिका
मुझको अब ना है कोई फिक्र सांवरे
रात दिन सुबह शाम रहता है
रहता है तेरा ही जिक्र सांवरे

6 Likes · 2 Comments · 161 Views
You may also like:
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
**किताब**
Dr. Alpa H.
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
बचपन
Anamika Singh
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
मुक्तक
Ranjeet Kumar
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पापा
Kanchan Khanna
सलाम
Shriyansh Gupta
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
Loading...