Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 20, 2017 · 1 min read

अब नफ़रत की धुंध छँटने लगी। जिन्दगी तुझमें फिर सिमटने लगी।।

अब नफ़रत की धुंध छँटने लगी।
जिन्दगी तुझमें फिर सिमटने लगी।।

चूड़ियों की अजीब ख्वाईश है।
शाम होते ही ये खनकने लगी।।

आ भी जाओ न ख्वाब में मेरे।
हिज्र सी रात मुझको डसने लगी।।

ईश्क में अश्क़ क्यूँ मेरे छलके।
सोचकर और मैं सिसकने लगी।।

कोई रोके न अब कदम मेरा।
हद से ज़्यादा मैं अब बहकने लगी।।

है ख़ुदा भी नाराज़ सा मुझसे।
उससे ज़्यादा मैं नाम रटने लगी।।

ये जो नफ़रत है जान ले लेगी।
आ गले मौत अब लिपटने लगी।।

ये जो “वासिफ” है बेवफ़ा ही है।
बावफ़ा ख़ुद ही इसपे हँसने लगी।।

156 Views
You may also like:
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का दर्द
Nitu Sah
💔💔...broken
Palak Shreya
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
Loading...