Sep 6, 2016 · 1 min read

अब तो राशन कार्ड बनाना….

कैसे है ये जनता के सेवक
जो जनता पर राज करते है
पहले करते जनता की चाकरी
बाद चक्कर कटवाते है,
जीत का जश्न बना कर
जाने कहाँ छिप जाते है
कुछ है जो करते है सेवा
बाकी मेवा खा जाते है,
भ्रष्टाचार की मारम मार
चारो तरफ है हाहाकार
कही चरित्रवान तो,
कही
चरित्र का अकाल है,
बक बक करने से मतलब
बोल बड़े विकराल है
बिगड़ गयी चाल है,
अब तो राशन कार्ड बनवाना
हो गयी टेड़ी चाल है,
जाने किस सफेदपोश में छिपा
“संदीप” लाल है।।

******D-S******

4 Comments · 328 Views
You may also like:
यादें
Sidhant Sharma
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
नूर
Alok Saxena
अजीब कशमकश
Anjana Jain
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे ईश्वर!
Anamika Singh
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
वार्तालाप….
Piyush Goel
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Vandana Namdev
तलाश
Dr. Rajeev Jain
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
Loading...