Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 15, 2022 · 1 min read

अब तो इतवार भी

अब तो इतवार भी उम्र के साथ
कुछ यूँ बदलता जा रहा है ‘कृष्ण’
कि छुट्टी तो दिखाई पड़ती है
पर खुद के लिए वक़्त नहीं…
– कृष्ण सिंह

2 Likes · 92 Views
You may also like:
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H. Amin
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
सच
अंजनीत निज्जर
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
✍️✍️ठोकर✍️✍️
"अशांत" शेखर
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीतने की उम्मीद
AMRESH KUMAR VERMA
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
Loading...