Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-168💐

अफ़सोस है उन्हें बे-करारी भी है,
धोखे से निकला था कि एतिबार नहीं।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
53 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
हृदय की कसक
हृदय की कसक
Dr. Rajiv
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पवनसुत
पवनसुत
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
प्रदीप कुमार गुप्ता
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
उसकी नज़र में अहमियत
उसकी नज़र में अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
💐प्रेम कौतुक-376💐
💐प्रेम कौतुक-376💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
Ranjana Verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
नितिन पंडित
संसार चलाएंगी बेटियां
संसार चलाएंगी बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
हमजोली (कुंडलिया)
हमजोली (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
तनख्वाह मिले जितनी,
तनख्वाह मिले जितनी,
Satish Srijan
कैसे भुला पायेंगे
कैसे भुला पायेंगे
Surinder blackpen
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
Tarun Prasad
अक्षय तृतीया ( आखा तीज )
अक्षय तृतीया ( आखा तीज )
डॉ.सीमा अग्रवाल
// जिंदगी दो पल की //
// जिंदगी दो पल की //
Surya Barman
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
ज़ख्म शायरी
ज़ख्म शायरी
मनोज कर्ण
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
Loading...