Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 18, 2022 · 2 min read

अफसोस-कर्मण्य

अफ़सोस

अफसोस होगा तुम्हे, यह जान कर
कि ऐसे भी जीते हैं लोग बिना संसाधनों के,
भूखे और प्यासे भी।
मजबूर अपनी मजबूरियों पर,
रोते और बिलखते भी l

शहर से दूर गांवों में और
गाँव से दूर भी जंगलों, पहाड़ों और बिरानियों मे,

हर शहर का प्रवेश द्वार होती है झोपड़ियां ओर दबे कुचले लोग,
शहर के उजालों ओर चकाचोंध में भी दबे होते है कुछ अंधेरे और बेबस तबके,

हाँ शहरों में भी बसते हैं गरीब और कमजोर
देखा है मैंने और आपने भी
अफ़सोस होगा तुम्हे, यह जानकर भी,
कैसे इन पर रोटियां सेंकती हैं
सरकारे और प्रशाशन
अफसोस होगा तुम्हे ये जानकर कि जूझ रहे हैं लोग झोपड़ियों
और एक कमरे के मकानों के लिए भी,
जैसे तुम जूझ रहे हो थ्री बी एच के और आलीशान मकानों के लिए ।

अफ़सोस होगा तुम्हे यह जानकर कि
तुम्हारे रोज के खर्चे से कम है कईयों के महीने का खर्च
अफसोस होगा तुम्हें यह जानकार
कि जितना तुम फेंक देते हो बर्बाद कर देते हो
उतना किसी की जरूरत है उतना मिलना किसी का हक है।

अफसोस होगा तुम्हे, यह देखकर भी
कि कैसे मैले, कुचले कपड़े पहने और जमीन पर बैठे पढ़ते है प्रायमरी स्कूलों में बच्चे जो कभी सुने ही नही कैडबरी, नेशले और मिल्क बार।

पर अफ़सोस है कि..अफसोस नही होगा तुम्हे

ये सब देखकर और जानकर भी अनजान बने रहने का,
अफसोस नही होगा तुम्हे, खुद को जरा सा न बदल पाने का,
अफसोस नही होगा किसी के जरा सा भी काम न आने का।

3 Likes · 2 Comments · 77 Views
You may also like:
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गधा
Buddha Prakash
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
✍️घुसमट✍️
"अशांत" शेखर
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
चित्कार
Dr Meenu Poonia
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
बेड़ियाँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
Loading...