अपशब्द

“यार एक बात समझ में नहीं आई?” पशोपेश में पड़े राकेश ने सिर खुजाते हुए कहा।

“क्या?” गोपाल ने ठण्डे दिमाग़ से पूछा।

“भला एक छोटी-सी बात पर महाभारत का इतना बड़ा युद्ध कैसे रचा गया?” राकेश के स्वर में आश्चर्य था।

“चुप बे अंधे की औलाद।” गोपाल ने अचानक क्रोधित होकर कहा।

राकेश को गोपाल के इस बदले व्यवहार से जैसे थप्पड़-सा लगा। एक तो वह इतने प्यार से प्रश्न पूछ रहा है और यह महाशय गाली दे रहें हैं।

“क्या कहा बे?” राकेश ने गोपाल का गिरेबां पकड़ते हुए कहा।

“रिलेक्स राकेश भाई … टेक इट इजी।” गोपाल ने अपना गिरेबान छुडवाने के प्रयास में कहा।

“व्हाय?” राकेश ने पूछा और अपनी पकड़ ढीली की।

“मैंने तो बहुत छोटी-सी बात कही थी और आप हाथापाई पे उतारू हो गए! मेरा कालर पकड़ लिया आपने!” गोपाल ने कमीज़ ठीक करते हुए कहा।

“कालर नहीं पकड़ता तो क्या आरती उतारता साले … और ये छोटी-सी बात थी!”

राकेश ने बड़े गुस्से में भरकर कहा, “क्या मेरा बाप अन्धा है? अगर मेरे हाथ में गन होती तो मैं इस छोटी-सी बात पर तुझे गोली मार देता।”

“यही तो ….” गोपाल ने हँसते हुए कहा, “यही तो मैं समझाना चाहता था, जाट बुद्धि।”

“क्या मतलब?” राकेश का गुस्सा कुछ शांत हुआ।

“मतलब एकदम साफ़ है, तुम्हारे पिता दृष्टिहीन नहीं हैं। यह बात मैं अच्छी तरह से जानता हूँ लेकिन तब भी तुम मुझे मारने पर उतारू हो गये। यदि खुदा-न-खास्ता पिस्तौल तुम्हारे हाथ में होती तो शायद मैं इस वक़्त आखिरी सांसे गिन रहा होता!”

गोपाल ने इस सादगी से कहा कि राकेश की भी हंसी छूट गई।

“सोचो मिस्टर राकेश, दुर्योधन पर क्या गुजरी होगी? जिसका बाप सचमुच में ही अन्धा था और उसे अपनी भाभी द्रौपदी के मुख से यह सुनना पड़ा ‘अन्धे का पुत्र अन्धा।’ अत: इस अपशब्द पर महाभारत का युद्ध होना तो तय था ही।”

“हाँ, आप सही कह रहे हैं, गोपालजी।” राकेश ने पूरी बात समझते हुए सिर हिलाकर कहा।

“इसलिए तो कहता हूँ जनाबे-आली … किसी काने या अन्धे को यदि प्रेम से सूरदास या नैनसुख कह दिया जाये तो बुरा क्या है?”

गोपाल जी ने मुस्कुराते हुए कहा, “कम से कम अपशब्द कहने के कारण दुबारा महाभारत तो न होगी!”

2 Likes · 2 Comments · 331 Views
You may also like:
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
किसान
Shriyansh Gupta
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
मन की मुराद
मनोज कर्ण
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
धरती की फरियाद
Anamika Singh
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...