Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2016 · 1 min read

अपरिचित

पल- पल से मैं आज अपरिचित
जानी-सी आवाज अपरिचित।1

उड़ता जाता दूर गगन में
फिर भी है परवाज अपरिचित।2

मंजिल के कुछ पास पहुँच कर
लगता है आगाज अपरिचित।3

भेद भरे सब ढ़ेर कथानक
रहता फिर-फिर राज अपरिचित।4

पूज रहा मैं धुन को तबसे
आज लगा है साज अपरिचित।5

कितना सब कुछ कहता आया
लेकिन अब अं दाज अपरिचित।6

परतें अबतक उभरीं ढेरों
दिखता जितना प्याज अपरिचित।7
@

171 Views
You may also like:
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
एहसास-ए-शु'ऊर
Shyam Sundar Subramanian
शायरी
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
यतींम
shabina. Naaz
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
श्री राधा जन्माष्टमी
बिमल तिवारी आत्मबोध
दीप आवाहन दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक
Ravi Prakash
💐💐तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शख्स या शख्शियत
Dr.S.P. Gautam
नहीं हूँ देवता पर पाँव की ठोकर नहीं बनता
Anis Shah
रोटी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
खैरियत का जवाब आया
Seema 'Tu hai na'
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैथिलीमे चारिटा हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
कबीर की आवाज़
Shekhar Chandra Mitra
ये ज़िन्दगी जाने क्यों ऐसी सज़ा देती है।
Manisha Manjari
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
✍️अंजाम और आगाज✍️
'अशांत' शेखर
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...