Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 21, 2017 · 2 min read

अपनों की चोट! (रोहिंग्या पर आधारित)

धराशाही हो गयी थी तुम्हारी
वसुधैव कुटुम्बकम की धारणा
जब फ़ाको में काट दिया गया था
तुम्हारी उस दरियादिली को
जो शरणागति की तुम्हारी
शास्त्रसम्मत और मूढ़ मान्यताओं
से उपजी थी।

की इतनी भी छोटी नही ये धरती
जो संपूर्ण आसमान से हाथ
रखने का दावा करो तुम
बदले में पावो
खून..हत्याएं.. विध्वंश..
कटे सर.. लाशो के ढेर.. धार्मिक उन्माद!

फिर से कर रहे हो वही भूल
जो चुनौती दे रहे हैं
बचाने वालों को
असंवेन्दनशील इस हद तक हैं
की उन्हें अपने धर्म पर खतरा हैं।

समय आ गया हैं
देशीय चिंताओं को गहरे में लेने
वाली उन सभी कट्टर बातों का
जो बिगड़ैल बेटे के लिए
एक बाप की कड़ी फटकार है,

नही चाहिए जिम्मेदारियां
नहीं चाहिये दरियादिली
हमें पहले अपने सूखे खेत सींचने हैं
स्वार्थी होने की उस हद तक
जहाँ पानी की हर एक बूंद
पहले हमारे अपनों के काम आये

विवश हूँ कि स्वार्थी हूँ
पर शांति कब नहीं स्वीकारी हमने
सदा ही स्वीकारी हैं
जोड़ने वाली हर नीति
भारत को गौरवशाली बनाने वाली
हर पहल
लेकिन देश को कचरा बनाने वाले कारखाने
हमे मंज़ूर नहीं
रोहिंग्या के पूर्वकर्म स्वयं
करेंगे उनका दिशा निर्धारण
बसायेंगे उन्हें उस दुनिया में
जो उन्ही के जैसी है
किसने कहा कि अतिथि हमें स्वीकार नहीं
पर रोटी के बदले
खून की दावत भी हमें मंज़ूर नहीं।

विश्वगुरु के बढ़ते कदम
गुलाम फिर ना हो जाये
एक सपना सौहार्द्र का
कही मिट्टी में ना खो जाये
उठना होगा हमें
खुद को ही उठाने
अंधे मानवतावाद की लकीर को
सदा के लिए मिटाने
सुहानुभूति को अस्त्र बना
अशांति के पैर पसारने वाले हर सपने को
चकनाचूर होना पड़ेगा

उस स्वार्थ को पालना पड़ेगा
जो अपनों को जरा सी चोट की आहट से
पराये को आँखे तरेर कर देखता हैं!

– © नीरज चौहान
20-09-2017

229 Views
You may also like:
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
Loading...