Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 25, 2019 · 1 min read

अपने ही मन के अंदर से !

कुछ रोज टूट जाती हूँ मैं,’अंदर’ से
तुम देखते हो मुझे बाहर से,
मैं बिखरती-सिसकती-सुबकती
हूँ मन के अंदर से।
एक पालना टूट के बिखरा है,
कुछ खिलौने छूट के टूटे हैं,
मेरे कलेजे के समंदर में।
मेरा अपना फिर खोया है
लालच के घने जंगल से,
टूट के फिर मैं बिखरी हूँ,
अपने ही मन के अंदर से !
।।सिद्धार्थ।।

5 Likes · 157 Views
You may also like:
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
घर-घर लहराये तिरंगा
Anamika Singh
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
ये चिड़िया
Anamika Singh
सुकून सा ऐहसास...
Dr.Alpa Amin
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
" समय "
DrLakshman Jha Parimal
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalveer Singh
बहुत अच्छे लगते ( गीतिका )
Dr. Sunita Singh
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
विश्वास
Harshvardhan "आवारा"
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️अनदेखा✍️
'अशांत' शेखर
मील का पत्थर
Anamika Singh
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
कशमकश
Anamika Singh
*संस्मरण*
Ravi Prakash
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
सुन री पवन।
Taj Mohammad
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
Loading...