Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 8, 2016 · 1 min read

अपने से होते है

सारे बुजुर्ग अपने से ही होते है
बस बच्चों के सहारे ही होते है

सब है मन मरजी के मालिक
आये न काम तो उनको खोते है

मत करो तुम बादलों की होते है
जल बिना सब धरती पर रोते है

बच्चे करते है अजीब नादानियाँ
अपने लिए बीज नफरत के बोते है

सरहदें जब हो जाए सैन्य सुसज्जित
मधु जन जनता सब चैन से सोते है

70 Likes · 250 Views
You may also like:
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
✍️✍️एहसास✍️✍️
"अशांत" शेखर
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
होली का संदेश
Anamika Singh
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
बस एक ही भूख
DESH RAJ
नसीब
DESH RAJ
अगर ज़रा भी हो इश्क मुझसे, मुझे नज़र से दिखा...
सत्य कुमार प्रेमी
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
सावन
Arjun Chauhan
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
Loading...