Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अपने बाप का क्या जाता है?

अपने बाप का क्या जाता है?

जब तू बोलता है तक आती है बहारें,
डोलती है दुनियां ढहती है दीवारें।
तेरे बोलने की छटा ही कुछ ऐसी है,
कि चमकते है आस्मां पे तारे सितारें।
बेशकीमती है शब्द तेरे, बोल है तेरे बड़े अनमोल।
तो बोल शब्दों से अपने बाप का क्या जाता है?

शब्दों से शक्ति है, शब्दों से भक्ति है।
शब्दों में जान है, शब्द ही महान है।
शब्द अजर है, शब्द अमर है।
शब्दों से वाणी,वाणी से प्राणी,
वजन को लेना अच्छे से तौल।
तो बोल शब्दों से अपने बाप का क्या जाता है?

शब्द से भलाई है, शब्द से बुराई है।
शब्द बनादे दुश्मन भाई से भाई है।
शब्दों की सीमा सीमा से संयम
संयम से जीती जा सकती लड़ाई है।
भाई बोल पहले तराजू के पल्ले पे तौल।
और जो भी बोल पर पहले दिल को खोल।
तो बोल शब्दों से अपने बाप का क्या जाता है?

तेरी ही बातों को मैनें गढ़ा था।
तेरे ही शब्दों से मैने पढ़ा था।
बातें जो तेरी थी उसमें था दम,
दुश्मन से मैनें उसी से लड़ा था।
बातें न तेरी हो ढोल में पोल।
तो बातों के भीतर भर देना सोल।
तो बोल शब्दों से अपने बाप का क्या जाता है?

सज्जन की सज्जन से सज्जन सी बात है।
साथी है साथी तो साथी सा साथ है।
शब्दों के अस्त्रों से दुश्मन को चीर दे,
दुर्जन है उसको दिखाना औकात है।
बातें हैं बन्दूक तो बन्दूक से बोल।
कर देना दुश्मन के कलेजे में होल।
तो बोल शब्दों से अपने बाप का क्या जाता है?

शब्दों की मीठी मिठाई पिलाना।
दुखियोंको शब्दों से ढाढस बंधाना।
शब्दों में ताकत वो बचा लेगा जान।
पंगू पहाड़ भी चढ़ेगा तू मान।
शब्दों की महिमा निराली तू बोल।
शब्दों का दुनियां में अनुपम है रोल।
तो बोल शब्दों से अपने बाप का क्या जाता है?

209 Views
You may also like:
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
रफ्तार
Anamika Singh
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
कशमकश
Anamika Singh
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Santoshi devi
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
दया करो भगवान
Buddha Prakash
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Nurse An Angel
Buddha Prakash
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी लेखनी
Anamika Singh
Loading...