Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

अपने गुरु हैं देवगुरु…: छंद कुण्डलिया

गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई …..

अपने गुरु हैं देवगुरु, उसके शुक्राचार्य.
दोनों का वंदन नमन, बने पूज्य आचार्य.
बने पूज्य आचार्य, बृहस्पति गुरु की माया.
देखे रूप अनेक, ज्ञान सबसे ही पाया.
वेदव्यास के नाम, सिद्ध माला दो जपने.
आया है गुरुपर्व. मना लें मिलकर अपने..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

132 Views
You may also like:
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
" मासूमियत भरा भय "
Dr Meenu Poonia
हम समझते हैं
Dr fauzia Naseem shad
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
मेरी जान तिरंगा
gurudeenverma198
जिन्दगी एक तमन्ना है
Buddha Prakash
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
*बेमिसाल दिखा गया (गीतिका)*
Ravi Prakash
भली बातें
Dr. Sunita Singh
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
✍️इंसाफ मोहब्बत का ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सावन की शुचि तरुणाई का,सुंदर दृश्य दिखा है।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
बंजारों का।
Taj Mohammad
गौरवशाली राष्ट्र का गौरवशाली गणतांत्रिक इतिहास
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
विसर्जन
Saraswati Bajpai
कार्तिक पूर्णिमा की रात
Ram Krishan Rastogi
शराब सहारा
Anurag pandey
बिहार एवं बिहारी (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
फ़ासला
मनोज कर्ण
मै वह हूँ।
Anamika Singh
✍️कुछ रिश्ते...
'अशांत' शेखर
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
⭐⭐सादगी बहुत अच्छी लगी तुम्हारी⭐⭐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...