Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

अपनी ताकत को कलम से नवाजा जाए

अपनी ताकत को कलम से नवाजा जाए,
हर बात मयस्सर होती कहां जमाने में ।

जरूरत आएगी तो हो जाएंगे रुखसत ;
क्यों लगे हो इस दुनिया को आजमाने में ।।

खुदा ने बख्शी है तुमको सौगात निराली;
झांको को तो सही जरा अपने खजाने में ।

मिट्टी के घर हैं और आंधियों का दौर है
फिर भी लगे हुए हैं आशियाना बनाने में ।।

खुद से रूबरू देखो तुम्हारे जैसा कौन है,
सदियां बीत रही खुद को बेहतर बनाने में।

हटाओ पर्दे ; ताकत याद दिलाओ उसकी,
सिंह क्यों झुक गया गीदड़ के आशियाने में।।

सर उठाओ , और अपनी खुद्दारी भी रखो ;
क्यों लगे हो यार दर-दर सर झुकाने में।

क्यों जरूरत है तुमको सभाओं के आलम की
क्या अजब मजा है अकेले में मुस्कुराने में ।।

☑कवि दीपक बवेजा सरल

479 Views
You may also like:
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
बेटी....
Chandra Prakash Patel
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
हर रास्ते की अपनी इक मंजिल होती है।
Taj Mohammad
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
खुश रहना
dks.lhp
नादानियाँ
Anamika Singh
सर्वश्रेष्ठ
Seema Tuhaina
शादी
विनोद सिल्ला
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
अल्फाज़ ए ताज भाग-6
Taj Mohammad
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr.Alpa Amin
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr.Alpa Amin
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
Loading...