Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 25, 2021 · 1 min read

” अपनी ढपली अपना राग “

सुखा फूल मुरझा कर पड़ा जो सड़क पर
किसी को लगे गंध तो किसी को पराग
आज सब हैं अपनी मर्जी के मालिक
सबकी अपनी ढपली अपना अपना राग,
सफेद बोर्ड पर छोटा काला बिंदु लगाकर
मीनू ने एक बार भीड़ को था आजमाया
जो दिखे बोर्ड पर वो तुम सब बयां करो
सबके हाथों में कलम कागज थमाया,
बयां करने का जब समय हुआ खत्म
सबने व्याख्या लिखकर पर्चा थमाया
भीड़ का परिणाम देखकर चकरा गया माथा
अधिकतर ने मात्र काले बिंदु के बारे में बताया,
समझ नहीं आया तब क्या बोले मीनू उन सबको
या कलयुगी नकारात्मकता का दिया जाए नाम
एक प्रतिशत जगह घेरे था काला बिंदु मात्र
बोर्ड की 99 प्रतिशत सफेदी क्यूं हुई गुमनाम,
विपरीत चीजों की तरफ खिंच रहे हम आज
सकारात्मकता शामिल नहीं हमारी दिनचर्या में
ना चाहते हुए भी भेड़ चाल को नित दोहराएं
सिर दर्द बना काम काज मशीनों की आड़ में।

1 Comment · 464 Views
You may also like:
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
नया सपना
Kanchan Khanna
गंगा माँ
Anamika Singh
मेरे दिल को
Shivkumar Bilagrami
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️उलझन✍️✍️
'अशांत' शेखर
द्रौपदी मुर्मू'
Seema Tuhaina
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
सफ़र में छाया बनकर।
Taj Mohammad
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
*विश्वरूप दिखलाओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
*#सिरफिरा (#लघुकथा)*
Ravi Prakash
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
दुनिया
Rashmi Sanjay
हवाई जहाज
Buddha Prakash
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
*सुप्रभात की सुगंध*
Vijaykumar Gundal
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
*विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस प्रदर्शनी : एक अवलोकन*
Ravi Prakash
Loading...