May 12, 2022 · 1 min read

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
आओ मुहब्बत को एक बार संभल कर देखते हैं

चाँद तारे फूल शबनम सब रखते हैं एक तरफ
महबूब-ए-नज़र पे इस बार मर कर देखते हैं

जिस्म की भूख तो रोज कई घर उजाड़ देती है
हम रूह-ओ-रवाँ को अपनी जान कर के देखते हैं

छोड़ देते हैं कुछ दिन ये फ़ज़ा का मुक़ाम
चंद रोज़ इस घर से निकल कर देखते हैं

लौह-ए-फ़ना से जाना तो फ़ितरत है सभी की
यार-ए-शातिर पे एतिबार फिर कर कर देखते हैं

कौन सवार हैं कश्ती में कौन जाता है साहिल पर
सात-समुंदर से ‘आसिफ’ गुफ़्तगू कर कर देखते हैं

~ मुहम्मद आसिफ अली (भारतीय कवि)

18 Views
You may also like:
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H.
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
कहानियां
Alok Saxena
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
Crumbling Wall
Manisha Manjari
Loading...