Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
आओ मुहब्बत को एक बार संभल कर देखते हैं

चाँद तारे फूल शबनम सब रखते हैं एक तरफ
महबूब-ए-नज़र पे इस बार मर कर देखते हैं

जिस्म की भूख तो रोज कई घर उजाड़ देती है
हम रूह-ओ-रवाँ को अपनी जान कर के देखते हैं

छोड़ देते हैं कुछ दिन ये फ़ज़ा का मुक़ाम
चंद रोज़ इस घर से निकल कर देखते हैं

लौह-ए-फ़ना से जाना तो फ़ितरत है सभी की
यार-ए-शातिर पे एतिबार फिर कर कर देखते हैं

कौन सवार हैं कश्ती में कौन जाता है साहिल पर
सात-समुंदर से ‘आसिफ’ गुफ़्तगू कर कर देखते हैं

~ मुहम्मद आसिफ अली (भारतीय कवि)

348 Views
You may also like:
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्ती
मुक्ती
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
अनिल अहिरवार"अबीर"
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
*विधायकी में क्या रखा है ? (हास्य व्यंग्य)*
*विधायकी में क्या रखा है ? (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
पर खोल…
पर खोल…
Rekha Drolia
अपनी अपनी मंजिलें हैं
अपनी अपनी मंजिलें हैं
Surinder blackpen
"इसलिए जंग जरूरी है"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
आप तो आप ही है
आप तो आप ही है
gurudeenverma198
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
भूखे पेट न सोए कोई ।
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
Rajesh vyas
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
सूर्यकांत द्विवेदी
जब ऐसा लगे कि
जब ऐसा लगे कि
Nanki Patre
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उसने
उसने
Ranjana Verma
💐अज्ञात के प्रति-18💐
💐अज्ञात के प्रति-18💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...