Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 28, 2016 · 1 min read

अपनी क़सम न दो मुझे लाचार मैं भी हूँ

अपनी क़सम न दो मुझे लाचार मैं भी हूँ
मजबूरियों के हाथ गिरफ्तार मैं भी हूँ

मैं देख ये रहा हूँ कहाँ तक हैं किमतें
दुनिया समझ रही है खरीदार मैं भी हूँ

दुनिया तो खैर है ही ये जैसे भी है मगर 
कुछ अपनी हालतों का ‘ख़तावार’ मैं भी हूँ

अब इस त’ल्लुक़ात को आगे बढाएें हम 
तू बे’वफा नहीं तो वफादार मैं भी हूँ

सूरज पहन के कौन निकलता है रात मैं
बुझते हुऐ चराग़ के इस पार मैं भी हूँ

        
  – नासिर राव

228 Views
You may also like:
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
* उदासी *
Dr. Alpa H. Amin
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
परदेश
DESH RAJ
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
नदियों का दर्द
Anamika Singh
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बेरूखी
Anamika Singh
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देखो
Dr.Priya Soni Khare
दुनिया
Rashmi Sanjay
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
Loading...