Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

“अन्याय”

न्याय की आशा में लाखों लोग न्यायलय के चक्कर लगाते रह जाते हैं।मैं समझता हूँ यह उन लोगों रे साथ “अन्याय”है जो ग़रीब हैं।आप भी राय दें:-
————————-
“अन्याय”
————————-
यह लो एक टुकड़ा ,
यह तुम्हारे हिस्से का,
यह न्याय है,
बाक़ी भी मिल जायेगा।
धीरे धीरे,
सब्र कर,
लंबी लाईन है,
तेरे आगे भी,
पीछे भी!!!!!
————————-
राजेश”ललित”शर्मा
२३-१-२०१७

Language: Hindi
4 Likes · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from राजेश 'ललित'

You may also like:
दर्द है कि मिटता ही तो नही
दर्द है कि मिटता ही तो नही
Dr. Rajiv
जीतना
जीतना
Shutisha Rajput
2310.पूर्णिका
2310.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
राष्ट्रीय गणित दिवस....
राष्ट्रीय गणित दिवस....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Life
Life
C.K. Soni
करते तो ख़ुद कुछ नहीं, टांग खींचना काम
करते तो ख़ुद कुछ नहीं, टांग खींचना काम
Dr Archana Gupta
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
सीमा पर जाकर हम हत्यारों को भी भूल गए
कवि दीपक बवेजा
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
प्रिय
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
Sakhawat Jisan
Sometimes you shut up not
Sometimes you shut up not
Vandana maurya
🌺उनकी जुस्तजू का पाबंद हूँ मैं🌺
🌺उनकी जुस्तजू का पाबंद हूँ मैं🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Praveen Thakur
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
समझदारी का तो पूछिए ना जनाब,
समझदारी का तो पूछिए ना जनाब,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
सूर्यकांत द्विवेदी
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
दिल से रिश्ते
दिल से रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अंदर का मधुमास
अंदर का मधुमास
Satish Srijan
■ नई परिभाषा /
■ नई परिभाषा / "लोकतंत्र"
*Author प्रणय प्रभात*
कीच कीच
कीच कीच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
Loading...