Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

【25】 *!* विकृत विचार *!*

जिधर भी देखू नजरों को, मिलती धूमिलता
सोचा मानव दयावान, पर भरी कुटिलता
(1) पाप की गठरी बांध रहा है, इंसा जी भर
तिनके भर अब नहीं रहा, उसको ईश्वर डर
इसी जन्म में मिलेगा उसको, कर्मों का वर
काम नहीं आए उसकी, कोई चंचलता
जिधर भी…………
(2) धन दौलत के मद में, मानव बन गया बंदर
काट गरीब की जेब, वो खुद को कहे बवंडर
हाय – हाय करता खुद एक दिन, बन जाए खंडर
एक दिन रोये देख वह, अपनी व्याकुलता
जिधर भी…………
(3) कमा रहा अधर्म से, उड़ा रहा गुलछर्रे
धर्मराज के दर पर, कितने लगेंगे फर्रे
कांप जाएंगे तेरी रूह के, जर्रे – जर्रे
उस दिन मंसूबों को, आएगी घायलता
जिधर भी…………
(4) अभी नहीं सत्कर्म तो, फेर मिले ना मौंका
झूठे सुखों को क्यों मोती सा, जीवन झौंका
सच्चे कर्मों से ही भव से, पार हो नौंका
वक्त अभी है मिटा ले, जीवन की निर्बलता
जिधर भी………….

2 Likes · 2 Comments · 405 Views
You may also like:
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
नारियल
Buddha Prakash
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
ये सियासत है।
Taj Mohammad
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
Loading...