Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 22, 2022 · 1 min read

अनसुनी~प्रेम कहानी

चलो सुनायें आज सभी को
एक अनसुनी प्रेम कहानी
शामिल जिसमें ना कोई लैला
ना रांझे की कोई दीवानी

ये प्रेम कहानी दो बहनों की
अलग जिस्म पर जान वहीं थी
एक जो दुख में डूबी होती
दूजी तभी परछाई बनी थी
ना वो अलग, ना सोच अलग थी
बस एक-दूजे को जान समझती
रूठ भी जाती कोई किसी से
होंठों से फिर बात ना करती

अब पहले उनमें कौन मनाए
कैसे आए रीत सुहानी
चलो सुनाऊ आज सभी को
एक अनसुनी प्रेम कहानी

मोड़ कहानी में तब आया
जब मंजिल उन्हें कॉलेज ले आई
अलग हुईं सपनों की खातिर
एक नर्सिंग, एक लैब में आई
समय ना मिलता, बात ना होती
दोनों की मुलाक़ात ना होती
फिर भी वक़्त ना जीता उनसे
याद बिना कोई रात ना होती

ख़्वाबों में था मिलना-जुलना
यादों में थी, प्रीत सुहानी
चलो सुनायें आज सभी को
एक अनसुनी प्रेम कहानी

3 Likes · 2 Comments · 33 Views
You may also like:
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
माँ की याद
Meenakshi Nagar
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी लेखनी
Anamika Singh
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Meenakshi Nagar
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...