Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2021 · 1 min read

अनमोल जीवन

अनमोल जीवन
★★★★★★★★★
अनमोल है ये जीवन,
रखना जरा संभाल कर।
कदम न लड़खड़ाना,
तू चलना ऐसे जानकर।
//1//
विपदा ये कैसी आई,
दुख के जो बदरा छाई।
मची है हाहाकार,
चुप्पी है ये सरकार।
आया जो है कोरोना,
सबका हुआ है रोना।
हौसला से ही मानव ,
पक्का ही जीत होना।
योग करना निशदिन,
तन मन को ये संभाल कर।
कदम न लड़खड़ाना,
तू चलना ऐसे जानकर।
//2//
ब्राम्हण को न करना दान,
डॉक्टर के कहना मान।
सेवा करे जतन से,
वही असली है भगवान।
जीवन में एक दिन सबको,
आना है और जाना।
मत करना तू घमंड जी,
काया का क्या ठिकाना।
हौसला सदा तू रखना,
जीवन को धैर्य धारकर।
कदम न लड़खड़ाना,
तू चलना ऐसे जानकर।
★★★★★★★★★
स्वरचित©®
डिजेन्द्र कुर्रे”कोहिनूर”
छत्तीसगढ़(भारत)

289 Views
You may also like:
दर्द को गर
Dr fauzia Naseem shad
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
शत शत नमन उन सपूतों को
gurudeenverma198
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️ख़्वाबो की अमानत✍️
'अशांत' शेखर
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पागल हूं जो दिन रात तुझे सोचता हूं।
Harshvardhan "आवारा"
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
शहीद-ए-आजम भगतसिंह
Dalveer Singh
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
'अशांत' शेखर
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
दर्द सबका भी सब
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
गीत
Kanchan Khanna
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
You are my life.
Taj Mohammad
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...