Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

–अनजान रिश्ता -अँधा प्रेम —

न जाने क्यूं लोग आँखे होने
पर भी अंधे हो जाते हैं
अनजान लोगों से अंधे प्रेम
में खुद ब खुद पड़ जाते हैं !!

जन्म देते हैं अपराध की
हवस भरी दुनिया को
अपने खून के रिश्ते को
तार तार कर जाते हैं !!

कर लेते हैं विश्वाश दूजे पर
घर में विश्वाश्घात कर जाते हैं
दफन कर देते हैं सब कुछ
अंधे प्रेम के जाल में फस जाते हैं !!

अंत बड़ा ही बुरा होता है इन सब का
क्यूं ख़बरें पढ़ अनजान बन जाते हैं
लग जाते हैं हाथ पूलिस के जब ये तब जीते
जागते समझते-बुझते अपराधी बन जाते हैं !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

185 Views
You may also like:
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज फिर मैं
gurudeenverma198
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
मेरे सपने
Anamika Singh
जुनून।
Taj Mohammad
मैने देखा है
Anamika Singh
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Gazal sagheer
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
प्यार अंधा होता है
Anamika Singh
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
दर्द से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
गज़ल
Saraswati Bajpai
✍️चाँद में रोटी✍️
"अशांत" शेखर
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
'जियो और जीने दो'
Godambari Negi
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
जिन्दगी और सपने
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
✍️औरत हूँ ✍️
"अशांत" शेखर
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
Loading...