Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

अनंत का आलिंगन

न जाने किसकी आँखों से
बरस रहा सावन बिन सावन
बूंदे अति शीतल हैं फिर भी
छलनी सीना होता क्यों साजन
न जाने किसकी आँखों से………………..

झर-झर झर-झर बरसे नैना तरसे,
गढ़-गढ़ बादल बन कर गरजे
जिया डरावे, हूँक उठावे
आस मिलन जगाए सावन
न जाने किसकी आँखों से………………..

हृदय है व्याकुल आकुल तन-मन
धुंधला-धुंधला दिखता दर्पण
हार सिंगार लगे आधा आधा
झुलसाय विरहा रही तेरी जोगन
न जाने किसकी आँखों से………………..

ठण्डी बारिश से सुलग रही है
धरा गगन को तरस रही है
छाया बसंत, कोयल और डाली
अब दिखने लगी चहुँ ओर अगन
न जाने किसकी आँखों से………………..

भर बाँहों में पिया लगा ले
अधर-अधर की प्यास बुझा दे
सांसो में दहक रहा अब
बन समीर का महका चन्दन
न जाने किसकी आँखों से………………..

सुध बुध विसरा ऐसे खो जाऊं
बज्र पाश मध्य में मैं जाऊं
पलक रहें पलकन में अटकी
चिर अनंत हो जाये आलिंगन
न जाने किसकी आँखों से………………..
………………………………………….

9 Likes · 234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
प्यारा सा गांव
प्यारा सा गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr Shweta sood
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
नेता के बोल
नेता के बोल
Aman Sinha
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार "अकेलापन।"
*Author प्रणय प्रभात*
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
दूर की कौड़ी ~
दूर की कौड़ी ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
Gouri tiwari
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
Loading...