Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#28 Trending Author
May 29, 2022 · 1 min read

अधुरा सपना

एक अधुरा सपना मेरा
बार -बार आकर मेरे दिल पर
दस्तक देता रहता है ।
लाख भुलाना चाहूँ पर
वह मुझे भुलने नहीं देता है।
याद दिलाकर वह मेरे सपने को
हर दिन मुझे रुलाते रहता है।
बार – बार अपने को पुरा
करने को कहते रहता है।

मैं कहती रहती हूँ उससे
मत आया कर तु मेरे पास।
तु मेरा अतीत थी
अब जीने दो मुझे
मेरे वर्तमान के साथ।
पर वह पगली न जाने
क्यों जिद्द पर अड़ी है।
बार- बार आकर वह मेरे
वर्तमान और भविष्य के बीच
मे खड़ी है।

मै कैसे उसे समझाऊँ की
वह मेरा अब भविष्य नही बन सकती है
न वर्तमान का हिस्सा बनकर
वह मेरे साथ रह सकती है।
वह सपना थी मेरे अतीत की
वह अब पुरा नही हो सकती है।
अब मैने सपना देखना छोड़ दिया है
अब मैं रहती हूँ हक़ीक़त के साथ।

वह अल्लहड सी लड़की
अब उसे ढुंढ़ने पर भी
कही नहीं मिलेगी।
जो सपनो की दुनियाँ मे रहती थी।
अब वह खोजने पर भी नही मिलेगी।

अब तुम्हारे आस्तित्व को भी
मिटना पड़ेगा
तु सपना थी मेरे जीवन की
तुम्हें सपना बनकर रहना पड़ेगा
बार-बार मेरे जीवन मे आकर
परेशान करना बंद करना पड़ेगा।
तुम्हें मेरे अतीत का हिस्सा बनकर
रहना पड़ेगा।

~ अनामिका

8 Likes · 8 Comments · 211 Views
You may also like:
गीत... कौन है जो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
सुंदर बाग़
DESH RAJ
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
पैसों की भूख
AMRESH KUMAR VERMA
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
एहसास में बे'एहसास की
Dr fauzia Naseem shad
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
# निनाद .....
Chinta netam " मन "
शबनम।
Taj Mohammad
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
जिंदगी का राज
Anamika Singh
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
मतदान का दौर
Anamika Singh
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
हमनें खुद को अगर नहीं समझा
Dr fauzia Naseem shad
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
देह मिलन
Kavita Chouhan
Loading...