Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अधिकार तुम्हें था….

अधिकार तुम्हें था रुठ जाने का
एक-बार नहीं सौ बार जाने का
इस कदर दूर तो न होते तुम मुझसे
साँसे भी इन्तजार करें तुम्हारे आने का..
.
बदल दिये रास्ते तुमने अपने
अफसोस रहा मिट गये सारे सपने
अधिकार था तुम्हें फैसला लेने का
पल भर में लगे आज कुछ और जपने!
.
प्रेम तुम्हारा बाँधे था मुझको
उफान ना आ जाये सोचना था तुझको
अधिकार था तुम्हें एक बार तो कुछ कहते
सब कुछ था तुम्हारा खुद को वार देती तुझको!
.
निशान शेष रह गये पदचिन्हों के
कुछ धुँधले कुछ चटकीले कदमों के
मिटाते जाना था छाप इनकी भी
चाहकर न जला पाते दीये यादों के !
.
आलीशान बंगला वीरान हो गया
दिल के कोनों में दर्ज नाम हो गया
बसा देते नयी बस्ती जाने से पहले
विरह में मेरे घर का बुरा हाल हो गया!
.
पतझड़ की तरह झड़ना नहीं था
बुजदिल की तरह डरना नहीं था
समझदारी से रोपते रिश्तों की शाख
ऐसे बारिश में छिपना अच्छा नहीं था!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार,रायबरेली(उ0प्र0)

246 Views
You may also like:
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे पापा
Anamika Singh
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
आकांक्षा राय
पिता
Manisha Manjari
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Saraswati Bajpai
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...