Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2022 · 1 min read

अदना

अपने कद को बड़ा समझ दूसरे को अदना मानते हो,
भूल जाते हो ऊंचाई से दिखने में
सब छोटे ही नजर आते हैं,

2 Likes · 4 Comments · 73 Views
You may also like:
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Buddha Prakash
पिता
Keshi Gupta
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
बरसात
मनोज कर्ण
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
हम मुकद्दर पर
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
पिता
विजय कुमार 'विजय'
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
Loading...