Oct 17, 2016 · 1 min read

अतीत

अतीत शब्द कह तूफान ला दिया
उठती लहरों का सैलाव ला दिया
कुछ पढ मन्द मुस्कराने लगी मैं
कुछ पढ कर कोमा में चली गयी मैं

किताब अतीत की यूँ पढ़ने लगी
शब्द -शब्द का विश्लेषण करने लगी
मीठी मीठी सी यादों में खोने लगी
खट्टी स्मृतियाँ काँटों सी चुभने लगी

सभाँला जब से होश अपना मैंने
तिरस्कार ,इंकार के कर सोपान पार
चलती रही प्यार के हासियों पर मैं
फिर वही ख्याल रह-रह झकझोर गया

अतीत की स्मृतियों में ढूँढा अपने को
सुन्दर मनोरम सपनों का स्थान न था
एक अतीत यादों की विशैली स्मृतियों का
जहाँ हिसाब पाने से खोने का ज्यादा था

अतीत ने सिखाया मुझको सही मार्ग
देख ना पीछे मुड़ आगे बढ़ते ही जाना
जीवन जीने के लिए ऊँपर से मुस्कराना
बेडौल व्यवस्था में जीना सीख लिया

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 202 Views
You may also like:
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
मन
शेख़ जाफ़र खान
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
प्रेम...
Sapna K S
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
पानी का दर्द
Anamika Singh
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...