Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2019 · 1 min read

“अतिथि”

(1)
तन सराय
मोह-माया सामान
“अतिथि” साँस
(2)
वक़्त अभाव
“अतिथि” से करती
दीवारें बात
(3)
मन के घर
घृणा-प्रेम अतिथि
आते व जाते
(4)
अतिथि सेवा
पूजा है संस्कारों की
आतिथ्य धर्म
(5)
बन अतिथि
ठहरी महंगाई
रोये गरीबी

स्वरचित
ऋतुराज दवे

Language: Hindi
1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
होना चाहिए निष्पक्ष
होना चाहिए निष्पक्ष
gurudeenverma198
खतरनाक होता है
खतरनाक होता है
Kavi praveen charan
विश्व तुम्हारे हाथों में,
विश्व तुम्हारे हाथों में,
कुंवर बहादुर सिंह
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
Seema gupta,Alwar
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
अमृत महोत्सव
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
प्यारी ननद - कहानी
प्यारी ननद - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो बोली - अलविदा ज़ाना
वो बोली - अलविदा ज़ाना
bhandari lokesh
🔥आँखें🔥
🔥आँखें🔥
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
एहसास-ए-हक़ीक़त
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
रूठ जाने लगे हैं
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
Anil Mishra Prahari
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Rajni kapoor
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता है मेरे रगो के अंदर।
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
उसने कहा था
उसने कहा था
अंजनीत निज्जर
रात उसको अब अकेले खल रही होगी
रात उसको अब अकेले खल रही होगी
Dr. Pratibha Mahi
✍️जब रिक्त हथेलियाँ...
✍️जब रिक्त हथेलियाँ...
'अशांत' शेखर
*आजादी का अमृत महोत्सव (कुंडलिया)*
*आजादी का अमृत महोत्सव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खुदकुशी करते नौजवान
खुदकुशी करते नौजवान
Shekhar Chandra Mitra
Loading...