Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

अतिथि हूं……

अतिथि हूँ
आखिर कब तक
इस सराय में रहूंगा।

इक दिन अँधेरा
तो होना ही है….
मगर अभी छुट्टी
का वक्त शायद दूर है।

जब वक्त आएगा
तो खबर किसको होगी।

बिन बताये….
बिन बुलाये………
सिमट जाऊँगा।

‘उसके’ आग़ोश में
चला जाऊँगा।

‘घायल’ है तो रवि है
रवि है तो रोशनी भी है।

इक दिन अँधेरा तो होना ही है
उस पल का तलबगार तो हूँ।

पर….
अभी ठहर जा ऐ वक्त…..
अभी मैं कहाँ तय्यार हूँ।

Language: Hindi
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
आज की प्रस्तुति: भाग 5
आज की प्रस्तुति: भाग 5
Rajeev Dutta
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
दरवाजे बंद मिलते हैं।
दरवाजे बंद मिलते हैं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
✍️वास्तविकता✍️
✍️वास्तविकता✍️
'अशांत' शेखर
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
J_Kay Chhonkar
झूठे गुरुर में जीते हैं।
झूठे गुरुर में जीते हैं।
Taj Mohammad
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गणपति स्वागत है
गणपति स्वागत है
Dr. Sunita Singh
एक अणु में इतनी ऊर्जा
एक अणु में इतनी ऊर्जा
AJAY AMITABH SUMAN
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
सम्पूर्ण सनातन
सम्पूर्ण सनातन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
The_dk_poetry
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
सूर्यकांत द्विवेदी
अजीब सूरते होती है
अजीब सूरते होती है
Surinder blackpen
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चौबोला छंद (बड़ा उल्लाला) एवं विधाएँ
चौबोला छंद (बड़ा उल्लाला) एवं विधाएँ
Subhash Singhai
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"झूठ और सच" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तिरंगा
तिरंगा
आकाश महेशपुरी
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...