Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-54💐

अजनबी नही थे,
पर अजनबी बना के गए।

©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Hindi
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
Rohit yadav
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इब्ने सफ़ी
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कैसे कोई उम्मीद
कैसे कोई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
चंदा मामा बाल कविता
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
💐प्रेम कौतुक-225💐
💐प्रेम कौतुक-225💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ बहन बेटी के मांनिद
माँ बहन बेटी के मांनिद
Satish Srijan
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
Shriyansh Gupta
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
श्री राजा राम राज्य रामायण
श्री राजा राम राज्य रामायण
अरविन्द व्यास
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ अप्रासंगिक विचार
■ अप्रासंगिक विचार
*Author प्रणय प्रभात*
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वो सहरा में भी हमें सायबान देता है
वो सहरा में भी हमें सायबान देता है
Anis Shah
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
होली का संदेश
होली का संदेश
Anamika Singh
Loading...