Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

अजगर

अजगर
✍✍✍✍

राजनीति भी
अजगर जैसी हो गई है
सरक -सरक जो चलती है
विशालकाय तन वाली
वंश परम्परा चलती यहाँ

राजनीति में
बाप बेटा दामाद सब
अजगर से बन जाते
नोंच -नोच जनता को खाते
खा- पीकर मस्त पड़ जाते

राजनीति में
आने से अपने जैसे अपने
घर के लगते हो जो सदा ही
मार फुँकार जहर उगलते
मौका परस्त हो नही चूकते

अजगर सी ही
लम्बी तौदें नित -प्रतिदिन
बढ़ती जाती रोज है
भूल जाते है निर्धनों को
हो आरूढ़ कुर्सी पर

अजगर तो भी
रेंग- रेंग कर चलता
ये तो गिरगिट से रंग
बदल कर के सरेआम
ठग बन घूमते है

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
Tag: कविता
71 Likes · 305 Views
You may also like:
सन्नाटा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
*जब किसी को भी नहीं बहुमत नजर में आ रहा...
Ravi Prakash
परम भगवदभक्त 'प्रह्लाद जी' ✨
Pravesh Shinde
तुम्हारा देखना ❣️
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
शेर
Rajiv Vishal
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
I was ready to say goodbye.
Manisha Manjari
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
नहीं आये कभी ऐसे तूफान
gurudeenverma198
उदासीनता
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुमसे इश्क कर रहे हैं।
Taj Mohammad
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
तुम्हारी कमी
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
शेर राजा
Buddha Prakash
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
तिरंगा लगाना तो सीखो
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
कहाँ चले गए
Taran Singh Verma
*"* वतन पर जां फ़िदा करना *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कवि
विजय कुमार 'विजय'
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
गणपति वंदना (कैसे तेरा करूँ विसर्जन)
Dr Archana Gupta
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कल..आज..कल..✍️
'अशांत' शेखर
Loading...