Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

अच्छे दिन

जो कहते थे रब्ब के बंदे हैं हम
क्यों आजकल वो स्वार्थ में अंधे हो रहे हैं।।
*****
लाशों के ढ़ेर, वतन की आन बेचना
देखो आजकल उनके बस ये धंधे हो रहे हैं।।
*****
उनका कहना था कि अच्छे दिन आएंगे
उनके खातों में अरबों-करोड़ों के चंदे हो रहे हैं।।
*****
मातम है चहूँ और, व्याकुलता का शोर
काले कानून,कालाबाज़ारी गले के फंदे हो रहे हैं।।
*****
कहते थे खुद को पाक साफ़ जो कभी
क्यों चौले आजकल उनके गंदे हो रहे हैं।।
*****
जो अँधेरों को जग से मिटाने चले थे
“दीप” उनके उजाले क्यों मंदे हो रहे हैं ।।
*****
कुलदीप दहिया “मरजाणा दीप”

1 Like · 4 Comments · 144 Views
You may also like:
फूल की महक
DESH RAJ
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
बिंदु छंद "राम कृपा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
“ खून का रिश्ता “
DrLakshman Jha Parimal
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
कैसा इम्तिहान है।
Taj Mohammad
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
खत्म तुमको भी मैं कर देता अब तक
gurudeenverma198
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
यह दुनिया है कैसी
gurudeenverma198
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिंदी व डोगरी की चहेती लेखिका पद्मा सचदेव का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो बीत गई।
Taj Mohammad
✍️कोई बैर नहीं है✍️
"अशांत" शेखर
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
Loading...