Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अच्छे दिन

अच्छे दिन की बानगी चाहों बाबू बैंक में जाओ
पांच हजार के मिनिमम दर को मेन्टेन तुम करवाओ
मेन्टेन तुम करवाओ नहीं तो कटेंगे पैसे
पैसे सब कटगये तो जीनव जीयेगा कैसे,
कहै “सचिन” कविराय सुख जो चाहो बच्चे
बैंक का सुनते जाओ दिन आयेंगे अच्छे।।
.

सरकारी हर कार्य का करना नहीं विरोध
पीते जाना रह दिन हर पल आये जितना क्रोध
आये जितना क्रोध कभी भी मुख ना खोलो
भ्रष्टाचार बस देखो भाई कुछ ना बोलो,
कहै “सचिन” कविराय बनो चापलूस दरबारी
तभी मिलेगा सुविधा तुमको सब सरकारी।।
.

सत्तारूढ़ जो जन रहे उनका करो गुणगान
घर में फोटो टांग कर सदा करो सम्मान
सदा करो सम्मान , समझ कर इसको धंधा
खाओ छक कर माल बने रहो भक्त तुम अंधा
कहै “सचिन” कविराय कभी ना हो तुम उनसे दूर
सत्ता जिनके हाथ में ह़ो और पार्टी सत्तारूढ़।।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
4/9/2017

204 Views
You may also like:
Nurse An Angel
Buddha Prakash
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Deepali Kalra
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
अरदास
Buddha Prakash
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
झूला सजा दो
Buddha Prakash
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुन्दर घर
Buddha Prakash
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
महँगाई
आकाश महेशपुरी
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...