Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Jun 19, 2022 · 1 min read

अग्नि पथ के अग्निवीर

हे अग्नि पथ के अग्निवीर
अभी तक गंभीर होकर
तुम कर रहे थे आंदोलन
फिर क्यों कर लिया है
तुमने यह उग्र रूप धारण।

क्यों अपने हाथों तुम अपने
ही पैरों पर कुल्हारी मार रहे हो
क्यों अपने ही सुविधा वाले
संपत्ति का नुकसान खुद
तुम अपने हाथों पहुँचा रहे हो।

सोचना धीर धरकर तुम
यह जो तुम ट्रेन, बस ,ट्रक
और सरकारी संपति में
जो आग लगा रहे हो
यह किसके पैसो से खरीदा जाता है।

यह संपत्ति किसी नेता का नही है,
बल्कि यह संपत्ति हमारे और
तुम्हारे टैक्स के पैसो से ही
खरीदा गया है और फिर
इसकी भरपाई भी हमारे ही
पैसो से होगा।

माना की इतने सालों की तपस्या पर
इस नियम के तहत तुम्हारे
जख्मों पर नमक छिड़का गया है
तुम्हारे उम्मीद, तुम्हारे सपनों
को रौंदा गया है।

पर हे अग्निपथ के अग्निवीर
यह अनामिका हाथ जोड़कर
कर रही है आप सब से अपील
आप विद्यार्थी है आप उग्रवादी न बने
आप भुले नही की आप उस
देश के वासी है
जहाँ अहिंसा से देश आजाद कराया गया था।

आप भी अहिंसा के पथ पर
चलकर अपनी मांग रख सकते है
इसके लिए क्यों आप हिंसक बन रहे है।
एकबार सोचकर देखना की
जो आप कर रहे हो उसमे
नुकसान किसका है।

~अनामिका

4 Likes · 6 Comments · 82 Views
You may also like:
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
✍️अलहदा✍️
'अशांत' शेखर
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
*मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
तुम मुझे
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
माई री [भाग२]
Anamika Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
Ravi Prakash
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
भरोसा नहीं रहा।
Anamika Singh
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
नूर
Alok Saxena
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...