Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2022 · 1 min read

अगर की हमसे मोहब्बत

अगर की हमसे की मोहब्बत, कुछ नहीं होगा तुम्हारा।
बेदाग निकलोगे तुम, कुछ नहीं होगा तुम्हारा।।
अगर की हमसे मोहब्बत—————–।।

मन को ललचाईये मत तुम, दौलत उनकी देखकर।
सुकून नहीं उनसे मिलेगा, होगा बदहाल तुम्हारा।।
अगर की हमसे मोहब्बत—————।।

हम तो सह लेंगे सितम हर,ना बहे आँसू तुम्हारे।
खुश नसीब होंगे तुम भी,कुछ नहीं होगा तुम्हारा।।
अगर की हमसे मोहब्बत—————–।।

मिलाना उनसे नहीं हाथ,जो हैं दीवानें हुस्न के।
दामन नहीं बचेगा उनसे, होगा बदनाम तुम्हारा।।
अगर की हमसे मोहब्बत——————।।

कुर्बान अपनी खुशियां, तुमपे कर देंगे हँसकर।
आबाद घर होगा तुम्हारा, महकेगा गुलशन तुम्हारा।।
अगर की हमसे मोहब्बत——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

121 Views
You may also like:
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पिता का दर्द
Nitu Sah
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
कशमकश
Anamika Singh
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
हम आपको नहीं
Dr fauzia Naseem shad
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
Loading...