Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2022 · 1 min read

अगनित उरग..

पग पग पर मौजूद हैं
अगनित उरग इच्छाधारी
ऐसे में बस दंश झेलना
जन जन की है लाचारी
एक दो हो तो पूज लें
याद कर विधि विधान
असंख्य उरग तो कैसे करें
उन सबकी सही पहचान
असली नागदेव से यही मैं
प्रार्थना करता हूं बारंबार
वो सब आधुनिक नागों की
विषग्रंथि को कर देवें निस्सार

73 Views
You may also like:
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
बेरूखी
Anamika Singh
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...