Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*अंसारी विवाद*

*अंसारी विवाद*

सोच समझकर बोलो चच्चा, नाम बड़ा है अंसारी।
थोक के व्यापारी चिल्लर के, मत बन जाना पंसारी।

जिस धरती पर पले बढ़े हो, उस धरती पर डरते हो।
बड़े बड़े पद धारण करके, उल्टा सीधा कहते हो।।

भारत ऐसा मुल्क जगत में, जहाँ मुसलमां निर्भय है।
सुख दुख में सब अपने है फिर, किसी बात का क्या भय है।

मिस्र ईरान इराक पाक में, जिल्लत देखो मुस्लिम की।
सद्दामों के जैसों की भी, हालत होती मुजरिम सी।।

बहुत कठिन है जीना जग में, सोच समझकर बात करो।
बिगड़ी बात नहीं बन सकती, इसी बात से जरा डरो।।

एक हाथ से रोटी बनवा लेना भी है क्या सम्भव ।
धर्मराज की आज जरूरत, तुम क्यों बनते हो कौरव ।।

शांतभाव से बात बनेगी, पर उसकी भी तो हद है।
आतंकी का अंत कराना, भी भारत का मकसद है।।

दहशत वाली बातें करना, अब कक्का जी बन्द करो।
*विश्व बंधु‍ता* भाव के भारत, से उलझन का अंत करो।।*

जनहित में ही काम कराती, आज हमारी सरकारें।
विश्व पटल पर इसीलिये तो, भारत के हैं जयकारे।।

काश्मीर में दहशतगर्दों, को ही मारा जाता है।
सर का सर से फिर क्यों सबका, ऊपर पारा जाता है।।

ईद दीवाली क्रिसमस मिलकर, सबही पर्व मनातें हैं।
भारत के भीतर में आपस, के जन्मों के नातें हैं।

गलत बात को गलत कहो ही, पर सच को सच बोलो तुम।
सच्चाई के मुद्दे पर तो, ताल ठोककर हो लो तुम।।

*भारतमाता की जय बोलो, ये गौरव का नारा है।*
*सकल विश्व के सब मुल्कों से, प्यारा देश हमारा है।।*

*वन्दे मातरम बोल सको तो, ये भारत की पूजा है।*
*नहीं जगत में ऐसा कोई, भारत जैसा दूजा है।।*

बगदादी के वंशज बनना, क्या तुमको मंजूर लगे।
तुम तो सच्चे हिंदुस्तानी, जो जग में मशहूर लगे।।

हिन्दू मुस्लिम और सभी की, जान भारती होती है।
*संग सङ्ग में यहां अजाने, और आरती होती है।।*

नहीं बिगाड़ो बनी बात को, वाणी में संयम धारो।
और एकता की बाधा को, आओ मिलजुलके काटो।।

-साहेबलाल सरल

1 Like · 1 Comment · 376 Views
You may also like:
मेरी लेखनी
Anamika Singh
कर्म का मर्म
Pooja Singh
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पिता
Kanchan Khanna
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मन
शेख़ जाफ़र खान
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...