Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2016 · 1 min read

अंधेरे जोड़ के

मुक्तक :-
तुम गये क्यूं छोड़ के !
कसमे वादे तोड़ के !
जी रहे हैं हम अकेले !
बिखरे मोती जोड़ के !!

देखते है जब मुख मोड़ के !
मुस्कान होठो पे ओड के !
जी रहे हैं आज हम !
ये अंधेरे जोड़ के !!
– सोनिका मिश्रा

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 470 Views
You may also like:
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
ईशनिंदा
Shekhar Chandra Mitra
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
बारिश की बूंद....
श्रद्धा
जिंदगी देखा तुझे है आते औ'र जाते हुए।
सत्य कुमार प्रेमी
शिवराज आनंद/Shivraj Anand
Shivraj Anand
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
मतलब नहीं इससे हमको
gurudeenverma198
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
हम भी क्या दीवाने हुआ करते थे
shabina. Naaz
है कौन सही है गलत क्या रक्खा इस नादानी में,
कवि गोपाल पाठक''कृष्णा''
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
हर किसी की बात नही
Anamika Singh
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
✍️परछाईया✍️
'अशांत' शेखर
✍️कैसी खुशनसीबी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
*दो टॉवर बदनाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
You are my life.
Taj Mohammad
जीने की वजह
Seema 'Tu hai na'
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...