Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 30, 2022 · 1 min read

अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।

उन परिंदों की उड़ान पर कब तक पहरे लगा पाएगा कोई,
जिन्होंने उड़ना भी पंख गंवाने के बाद हीं सीखा है।
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है, और
खुद के हाथों में नई लकीरों को खींचा है।
जलती चिता पे अपने जीवन को पुनः पाया है, और
मृत नसों को उम्मीदों के लहु से सींचा है।
बारिश की बूंदों में आंसूओं को गवायाँ है, और
कड़ी धूप में आंखों को कई बार मींचा है।
संघर्षों में उन दर्दों को छिपाया है, और
स्वाभिमान ने इस नई तस्वीर को खींचा है।
पथरीले रास्तों से मंजिल को चुराया है, और
जख्मी पैरों से इरादों को क्या खूब सींचा है।
ठंडी राख में अपने अस्तित्व को खोया है, और
उसी राख में अंगार बनना भी सीखा है।
छुटते किनारों ने अपनी लहरों से मिलाया है, और
सागर की गहराई में बवंडरों को लिखा है।
इस बदलते मौसम से डर रहे हो क्यों?
अभी तो बस मेरी ख़ामोशियों ने हीं चीखा है।

2 Likes · 2 Comments · 122 Views
You may also like:
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
प्रेम
Kanchan Khanna
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️कबीरा बोल...✍️
'अशांत' शेखर
"दोस्त"
Lohit Tamta
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
इश्क का दरिया
Anamika Singh
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
खेत
Buddha Prakash
✍️आखरी कोशिश✍️
'अशांत' शेखर
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"मायका और ससुराल"
Dr Meenu Poonia
मालूम था।
Taj Mohammad
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
भूल ना पाऊं।
Taj Mohammad
तुमसे इश्क कर रहे हैं।
Taj Mohammad
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
Loading...