Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2022 · 1 min read

अंदाज़।

अंदाज़ ही उसका अलग होता है।
यूं जिसके सीने में जिगर होता है।।

हवा का रुख खुद ही मुड़ जाता है।
शाहशाहों का आगाज़ जुदा होता है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 2 Comments · 273 Views
You may also like:
*बाबा तीजो है (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वक्त
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
★डर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आँखों में आँसू क्यों
VINOD KUMAR CHAUHAN
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
जवानी
Dr.sima
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
हम और हमारे 'सपने'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आस्तीक -भाग पांच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ख़्वाब ताबीर
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा
RAFI ARUN GAUTAM
परमात्मनः प्राप्तया: स्थानं हृदयम्
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब कितना कुछ और सहा जाए-
डी. के. निवातिया
*मुकम्मल तब्दीलियाँ *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हौसला
Mahendra Rai
राष्ट्रभाषा का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
शीर्षक: "ये रीत निभानी है"
MSW Sunil SainiCENA
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
आंख ऊपर न उठी...
Shivkumar Bilagrami
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बनाए कुछ उसूल हैं।
Taj Mohammad
फरियाद
Anamika Singh
Book of the day- कुछ ख़त मोहब्बत के (गीत ग़ज़ल...
Sahityapedia
Loading...